आज तक कोई भी JEE में पुरे अंक नहीं ला पाया है| और कोई छात्र पुरे अंक ले आये इसकी संभावना ना के बराबर है|

JEE का टॉप रहकर भी उत्तम नहीं है, और इसलिए हम उन टॉप रैंकर्स से भी बोहुत कुछ सिख सख्ते है| उन्होंने निश्चित रूप से अधिकतर सवाल सही किये है और इसलिए वे लोग भारत के टॉप ०.०१% में आते है| हम उनसे काफी कुछ सिख सकते है, बल्कि हम और भी ज़्यादा उनकी गलतियों से सिख सकते है|

यह पैक में ४०८ सबसे कठिन प्रश्न है जो आपको प्रैक्टिस करना चाहिए |

गोविन्द लाहोटी (AIR 3)
जनक अग्रवाल  (AIR 2) and
चित्रांग मुर्डिया  (AIR 1)
.
इन तीनो ने भी कम से कम एक गलती तोह की है| 

जिन बच्चो ने यह पैक का उपयोग किया है उन्होंने ५०० के निचे रैंक लायी है, तोह आप अनुमान लगा सकते हो यह कितने कम का पैक है 

Did this answer your question?