रैंक अप में अपनी टेस्ट्स की प्रतिक्रया मिलने के पश्चात आपको निम्नलिखित के बारे में ज्ञान होता है :

1) चैप्टर्स जो आपने गलत किए.
2) चैप्टर्स जो आपने सही किए
3) चैप्टर्स जिन्हें आपने प्रयास करने का प्रयत्न ही नहीं किया

स्कोर गुणांक (Score Quotient) एक ऐसा फैक्टर है जिसकी गणना 3 कारकों के आधार पर होती है :

a. एकेडमिक भागफल
b. व्यवहार भागफल
c. परीक्षा लेने का भागफल

यदि आप निजीकृत शैक्षणिक संशोधन (Personalized academic revision) को देखेंगे , तो आप पाएंगे की फुल टेस्ट के लिए यह आपको 10 चैप्टर्स देता है जिसमें प्रत्येक चैप्टर के साथ 30 - 50 प्रश्न मिलते हैं | ताकि आप इन कॉन्सेप्ट्स को सही तरह समझ कर इनमें माहिर हो सकें |

यह चैप्टर्स टेस्ट कॉन्सेप्ट्स और तैयारियों के लिए अतिआवश्यक हैं |

यदि आप इस कंटेंट की प्रैक्टिस रैंक अप द्वारा कर रहे हैं तो आपको कदम कदम पर मार्गदर्शित  किया जायेगा |कांसेप्ट की प्रैक्टिस करने के बाद आपको उसका डिटेल्ड सलूशन देखने को मिलेगा | और इन्हें आप वीडियोस और नॉलेज ट्री की मदद से सीख सकेंगे |

कांसेप्ट की प्रैक्टिस के पश्चात आप इन्हें रिवाइज़ भी कर पाएंगे| आप इन्हें जैसे ही प्रयास करना शुरू करेंगे , रैंक अप तुरंत ही आपकी गलतियों और आपकी प्रगति पर नज़र रखना शुरू कर देगा |

आपके प्रदर्शन के आधार पर यह आपको एफर्ट रेटिंग प्रदान करेगा | यदि आपकी एफर्ट रेटिंग ज़्यादा है तो आपके द्वारा अर्जित किया गया स्कोर भी अपनी आप बढ़ेगा |


To see this page in English, Click here.

Did this answer your question?